संस्कृति और विरासत

छतरपुर – ऐतिहासिक परिदृश्य और समृद्ध पुरावशेषों का शहर है |

छतरपुर में धार्मिक आकर्षण और भारतीय जातीयता के संरक्षण की एक अद्वितीय स्थिति है। इसके बाद शहर के शानदार स्मारक और वन्य जीवन आपको इसकी सुंदरता से मंत्रमुग्ध कर देगा |

केन और खुदार नदियों के संगम पर स्थित केन घड़ियाल अभयारण्य में राणे झरने के शानदार दृश्य देखने के लिए मिलते है , छतरपुर के क्षेत्र में विभिन्न सुरम्य पर्यटक स्थलों की खोज की जा सकती है| इसके अलावा जिले में कई प्रमुख सीमाएँ हैं जैसे पूर्व से पन्ना, पश्चिम से टीकमगढ़, दक्षिण से दमोह, दक्षिण पश्चिम से सागर और अंत में उत्तर से उत्तर प्रदेश।

जिले को मध्य भारत के “राजा का स्थान” माना जाता था, छतरपुर में पर्यटकों के आकर्षण के लिए कई पर्यटक स्थल हैं जो शहर के भीतर और आसपास – जटाशंकर, भीमकुंड, महाराजा छत्रसाल संग्रहालय और पन्ना नेशनल पार्क हैं। बहरहाल, लोकप्रिय यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल, खजुराहो ग्रुप ऑफ टेम्पल्स छतरपुर प्रांत के अंतर्गत आता है, जो हर साल फरवरी के महीने में विश्व प्रसिद्ध खजुराहो नृत्य महोत्सव का आयोजन करता है।